Home देश NRC पर ममता को राजनाथ सिंह का जवाब

NRC पर ममता को राजनाथ सिंह का जवाब

SHARE

हाल ही में पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी के एनआरसी के ड्राफ्ट पर बीजेपी सरकार पर हमला बोला था. बता दे की गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इसपर जवाब देते हुए कहा कि यह पूरा काम सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो रहा है. उन्होंने एनआरसी के ड्राफ्ट पर लगाए गए आरोप निराधार है यह बताया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की लोकसभा में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और वामदलों समेत कुछ विपक्षी दलों के सदस्यों ने असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजिका (एनआरसी) में ४० लाख लोगों का नाम नहीं होने का मुद्दा उठाया. उन्होंने इसे अमानवीय व मानवाधिकार के खिलाफ कदम बताया. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि, “यह काम सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो रहा है और सभी को अपनी नागरिकता साबित करने का मौका मिलेगा.”

खबरों की माने आरजेडी सांसद जय प्रकाश नारायण यादव ने एनआरसी का मुद्दा लोकसभा में उठाया. उन्होंने कहा कि यह मानवाधिकार से जुड़ा मुद्दा है, यह इंसानियत से जुड़ा मुद्दा है. गृह मंत्री ने कहा की, “जो भी लिस्ट जारी हुई है वो फाइनल एनआरसी नहीं हैय अभी २.८९ करोड़ की एनआरसी पब्लिश हुई है. २८ अगस्त के बाद दावों और शिकायतों का मौका मिलेगा.”

उन्होंने कहा की, “इस पर सुप्रीम कोर्ट को फैसला करना है, हम कुछ नहीं कह सकते. इसके बाद भी अगर कोई बच जाता है तो वो फॉरेन ट्रिब्यूलर के पास जा सकता है. इसलिए इस मुद्दे को लेकर किसी प्रक्रार डरने की जरूरत नहीं है.”

बता दे की आगे गृह मंत्री ने कहा, ”एनआरसी की प्रक्रिया पूरी निष्पक्षता के साथ की गई है. हो सकता है कुछ लोग कुछ आवश्यक दस्तावेज ना दे पाए हों. इसलिए दावे और शिकायत की प्रकिया में उन्हें पूरा मौका दिया जाएगा. मैं यह बात साफ करना चाहता हूं कि अगर फाइनल लिस्ट के बाद भी किसी का नाम एनआरसी में नहीं आता है तो उसे फॉर्नर ट्रिब्यूनल में जाने का भी अधिकार है. किसी को भी अनावश्यक परेशान होने की जरूरत नहीं है, यह प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो रही है.”