Home देश PM मोदी एक्शन में, PNB घोटाले में इस बड़े नेता को किया...

PM मोदी एक्शन में, PNB घोटाले में इस बड़े नेता को किया गिरफ्तार

SHARE

पंजाब नेशनल बैंक का घोटाला पिछले हफ्ते सबके सामने आया. यह अज तक का सबसे बड़ा बैंक घोटाला है. सीबीआई ने कड़ी कारवाही करने के बाद बहुत से मशहूर हस्तियों के नाम सामने आए.

अब तक सीबीआई ने मुख्या अर्रोपी नीरव मोदी की आवेद सम्पतीओं को सील कर दिया है. नीरव मोदी देश से फरार है फिलहाल. अभी सीबीआई की जांच जरी है. कांग्रेस सरकार  के कई नाम इस घोटाले से जुड़े है. कांग्रेस सरकार ने मोदीजी पर कई गलत आरोप लगाये जब यह घोटाला सामने आया. कांग्रेस ने मोदीजी को अम्बानी अडानी की सरकार कहकर मोदीजी पर कीचड़ उछाला. कांग्रेस सरकार हमेशा की तरह बहाना ढूढ़ती रही की कब उन्हें मौका मिलेगा मोदीजी को नीचा दिखने का. कांग्रेस ने लगातार ६० साल भारत को लुटा है. कांग्रेस ने अभ तक कोई कार्य नहीं किया जिससे भारत का फायदा हो. कांगेस की सरकार भ्रष्टाचारीओं से भरी हुई है. कांग्रेस के कई नाम इस घोटाले में जुड़े है. राहुल गाँधी का सबसे बड़ा नाम है उद्दोग्पतिओं को फायदा पहुचाने में.

 

कांग्रेस की गतिविधियों को देखकर मोदीजी ने कभी कांग्रेस के प्रति कोई विशेष टिपणी नहीं की. क्योंकि वैह जानते  है की कोण सच है और कोण गलत. मोदीजी ने हमेशा भारत के हित में  फैसले लिए है. मोदीजी ने इसीलिए इस बार एक बहुत बड़ा फैसला लिया है. जिससे राजनैतिक नेते में हड़बड़ी मच गयी है. मोदीजी से अब क़र्ज़ ना चुकाने वाले बच्च नहीं सकते. पंजाब नेशनल बैंक के घोटाले में कभी ने पंजाब नेशनल बैंक के पूर्व डायरेक्टर को गिरफ्तार किया था. अब इस घोटाले से एक नया नाम आया है. सीबीआई ने विपुल अम्बानी की गिरफ्तारी की है. विपुल अम्बानी नीरव मोदी के फिरे स्टार कंपनी के मुख्या अध्य्षक है. विपुल अम्बानी; अनिल अम्बानी और  मुकेश अम्बानी के रिश्तेदार है. विपुल दिवंगन धीरुभाई के छोटे बेटे नाटू भाई अम्बानी के बेटे है.

 

विपुल अमबानी २०१४ से नीरव मोदी की फायर  स्टार कंपनी में सि.एफ.ओ के पद पर है. विपुल और नीरव मोदी का रिश्ता काफी गहरा रहा है. विपुल अम्बानी ने सीबीआई को पूछ ताछ के दौरान सहयोग देने  से मना किया. इसीलिए वपुल अम्बानी को सीबीआई ने  गिरफ्त में ले लिया है. शायद नीरव मोदी को लगा होगा की इतने बड़े घर के लोगो से रिश्ता रखेंगे तोह उन्होंने कोई नाह छु पायेगा. सीबीआई को हलके में ले लिया नीरव मोदी और उसके साथियों ने. अगर कांग्रेस सरकार होती तोह शायद यह घोटाला कभी बहार आता ही नही. कित्नु मोदी सरकार किसी भ्रष्टाचारी को नहीं छोडती. इसीलिए विपुल मोदी को सकत कारवाही करने के लिए उससे फ़ौरन गिरफ्तार कर लिया गया. इड बात से कांग्रेस के कई नेते अब परेशानी में आ गए है.

विपुल अम्बानी की गिरफ़्तारी की खबर सुनकर सभी उद्दोगपति तथा कांग्रेसी नेते अब डर गये है. राजनीती में हड़बड़ी सी मच गयी है. सभी उद्दोगपति जिसने बैंक से कर्जा लिया है वह अब घबरा कर अपना रक्कम चुकाकर मोदीजी से बचने की कोशिश में जुट गये है. पक्ष और विपक्ष ने नेते इस बात से डर रहे है की उनका नाम भी ना आ जाये मोदीजी की लिस्ट में. इस्लिलिये खुदके बचाव में प्रयास शुरू है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने गीतांजलि जेम्स के प्रवक्ता मेहुल चोकसी और सम्भंदित फार्मा पे २० जगह पर  छापे मारे है. अधिकारिओं का कहना है मेहुल चोकसी की और १३ कंपनीओं की मुंबई, पुणे, हैदराबाद, बंगलुरु के अन्य शहरों में जाँच करेंगे. विपुल अम्बानी की गिरफ्तारी से कई लोग अपने बचाव का प्रयास शुरू कर दिया है. नीरव मोदी के इस घोटाले से सारे राजनितिक घोटालों के बारेमे भी बहुत खबरे सामने आई है.