Home विदेश PM मोदी ने भारत में लिए इस फैसले का अमेरिकी संसद में...

PM मोदी ने भारत में लिए इस फैसले का अमेरिकी संसद में हुआ स्वागत

SHARE

अमेरिका ने हाल ही में विदेश से आयात होने वाली चीजों पर आयात शुल्क में बढौतरी की है. इसमें भारतीय चीजों पर भी शुल्क बढ़ गया है. लेकिन अमेरिका को यह चिंता सता रही है की क्या भारत भी इसका जवाब देने के लिए अमेरिकी चीजों का शुल्क बढ़ा देगा. उन्हें लगता है की एल्युमीनियम और स्टील पर लगे आयत शुल्क की वजह से भारत भी उनपर जवाबी कार्यवाही कर सकता है. अमेरिकी अधिकारी इस चिंता में है की यदि भारत कोई जवाबी कार्यवाही करता है तो अमेरिका कुछ भी नहीं कर पायेगा. यह मामला अमेरिका की संसद में एक बड़ा विषय बन चूका है.

अमेरिकी अधिकारियों को लग रहा है कि एल्‍यूमिनियम और स्‍टील पर इम्‍पोर्ट ड्यूटी के जवाब में भारत मसालों को लेकर बड़ा कदम उठा सकता है. अगर ऐसा हुआ तो अमेरिकी कंपनियां मुश्किल में पढ़ जाएंगी और अधिकारियों के पास कंपनियों के लिए कोई जवाब नहीं होगा. अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइथिजर ने साफ कह दिया है कि राष्‍ट्रपति ट्रम्‍प के इस कदम के बाद भारत ऐसी स्थिति में हो सकता है, जहां वह जवाबी कार्रवाई करना चाहेगा. ट्रम्प की ओर से शुरू की गई ट्रेड वार को लेकर पूछे गए सवाल का वे जवाब दे रहे थे. इस विषय पर बात करते हुए लाइथिजर ने अमेरिकी संसद को बताया कि भारत का सिस्‍टम इतना ओपन नहीं है. वहां कई ऐसी उलझाने हैं, जिसके जरिए भारत अमेरिकी हितों को प्रभावित कर सकता है.

उन्होंने कहा की मेरा अंदाजा है कि भारत उस स्थिति में हो सकता है, जहां वह जवाबी कार्रवाई करना चाहेगा. भारत के साथ अमेरिका का व्यापार भारत के पक्ष में है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने २ मार्च को ट्वीट किया था की ”व्यापारिक जंग मजेदार होती हैं और उन्हें आसानी से जीता भी जा सकता है.” उससे एक ही दिन पहले ट्रंप प्रशासन ने अमेरिकी बाजारों में एक बड़ा निर्णय लिया था, जिसके तहत स्टील आयात पर २५ फीसदी और एल्युमिनियम आयात पर १० फीसदी का रिकॉर्ड शुल्क लगाने का ऐलान किया था. इस ट्विट से लन्दन से लेकर बीजिंग और दिल्ली तक दुनियाभर में हंगामा मच गया था. भारत में उद्योग और व्यापार क्षेत्र के विशेषज्ञ मौजूदा स्थिति में किसी भी किस्म की ढिलाई के खिलाफ चेतावनी देते हैं.