Home देश PM मोदी पर ये बड़ा सर्वे आया सामने, इतने सालों तक सत्ता...

PM मोदी पर ये बड़ा सर्वे आया सामने, इतने सालों तक सत्ता में रहेंगे PM मोदी

SHARE

इंडियन प्राइम मिनिस्टर नरेन्द्र मोदी का हर कोई फैन बन गया हैं, पीएम मोदी का लोहा हर किसी ने मान लिया हैं जम्मू कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक और विदेश में अमेरिका से लेकर उत्तर कोरिया तक मोदी की ताकद दिखाई देती हैं. मोदी जीने सत्ता में आते ही कई बड़े और ऐतिहासिक फैसले इंडिया के हित में लिए नरेन्द्र मोदी के बड़े और तेज निर्णय लेने से बड़ा नाम हुआ हैं. पीएम मोदी ने सत्ता में आते ही सभी कड़े कानून बनाते हुए आर्मी को सपोर्ट करते हुए पूरी खुली छुट दी ताकि ओ आतंकवाद के खिलाप लढ सके.

दुनियाभर के सभी राजनेताओं के लिए सत्ता की खुर्सी बहोत ही महत्त्वपूर्ण लगती हैं, ऐसे लोग सत्ता कके खुर्सी पर से कभी उतरना नहीं चाहते. एक बड़े डेटा कंपनी ने राजनैतिक के बड़े विद्वानों से बात कर के ऐसी न्यूज़ प्राप्त कर ली हैं की दुनिया के किस बड़े देश के राष्ट्र प्रमुख कब तक अपनी खुर्सी बनाये रखंगे कब तक सत्ता में रहेंगे. इस डेटा में कई बड़े राष्ट्रपतियों के नाम शामिल हैं जिसमे सउदी आरब के मुहम्मद बिन सलमान भी शामिल हैं ये २०१७ में यहाँ के प्रिंस बने थे इनकी उम्र ३२ साल हैं, यहाँ की सरकार पूरी इनके ही हात में काबिज हैं, ये आने वाले ५० साल तक सत्ता में रह सकते हैं, इस राजा ने सभी विरोधियों को अपने रस्ते से पाहिले से ही दफा कर दिया हैं.

अब बात करते हैं नॉर्थ कोरिया के हुकुमशाह किम जोंग की किम ने पिता के अंत के बाद 20११ में सत्ता अपने हात में ली ये जनाब हुकुमशाह होने के कारन तब तक सत्ता में रह सकती हैं जब तक सेना इनके खिलाप जाकर इनको रास्ते से हटा न दे इनके शासन काल की कोई सीमा नहीं होती ये लोग आजीवन सत्ता पर रह सकते हैं. चीन के राष्ट्रपति क्षी जिनपिंग २०१२ में चाइना में सत्ता हासिल की तभी से २०१७ तक सभी विरोधियों को रस्ते से हटा कर खुद ही शेर बन गए यहाँ तक की उन्होंने अपना कार्यकाल ख़तम होने से पहले संविधान में बदलाव करके राष्ट्रपति के कार्यकाल को अनिश्चित कार्यकाल के लिए बढ़ाया गया हैं. ये बदलाव न होते तो नियम के अनुसार २०२३ तक ही राष्ट्रपति बन पाते अब पता चल रहा हैं की वर्ष २०३० तक खुर्सी पर बने रह सकते हैं.

बात की जाये रशिया के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तो पुतिन वर्ष २००० में पहली बार चुनाव जीतकर रशिया के बड़े राष्ट्रपति बने फिर पुतिन ने २००८ से लेकर २०१२ तक अपना इक्का रशिया पर बनाये रखा अब रशिया की संविधान की बात की जाये तो ओ वर्ष २०२४ तक राष्ट्रपति की खुर्सी पर बैठ सकते हैं. रशिया के प्राइम मिनिस्टर की तकाद का अंदाजा लगते हुए ये अनुमान लगाये जा रहे हैं की ओ अपना कार्यकाल ख़तम होने से पूर्व ही संविधान में बदलाव करके फिर से २०२४ के बाद भी राष्ट्रपति बन सकते हैं या फिर किसी अपने ही पार्टी के सदस्य को राष्ट्रपति बनाकर अपने हात की कटपुतली बना सकते हैं. और खुद ही बड़े निर्णय ले सकते हैं, हालाकि ओ खुद ही बनने की सम्भावना नजर आ रही हैं.

अब बात आती हैं इंडियन प्राइम मिनिस्टर नरेन्द्र मोदी की इस कंपनी के कमिटी ने यी भी पड़ताल की हैं की भारत में नरेन्द्र मोदी कब तक अपनी सत्ता बरकरार रख के यहाँ राज करेंगे, साल २०१४ में नरेन्द्र मोदी ने पीएम के नाते भारत की कमान हात में ली थी जो की २०१९ में ५ साल पुरे करेंगे इस सर्वे में साफ़ हो रहा हैं की नरेन्द्र मोदी को चुनौती देने वाला अभी तो कोई इतना बड़ा विरोधी नहीं हैं, इसीलिए नरेन्द्र मोदी २०२९ भारत के प्राइम मिनिस्टर के पद पर बरकरार रह सकते हैं. साथ ही ओ अपने कार्यकाल में संविधान में और कानून में काफी बदलाव भी जारी कर सकते हैं. २०२९ तक तो नरेन्द्र मोदी के आलावा कोई और पीएम इंडिया के लिए कोई इससे बेहतर पीएम नजर नहीं आ रहा हैं.

अब आते हैं अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प जो की अब तक के नेताओं से इनके नतीजे सबसे अलग हैं, इस कंपनी ने जो सर्वे किया हैं इसमें ये अपता चल रहा हैं की ट्रम्प के चाहे वालों की संख्या उनके ख़राब काम से काम होती जा रही हैं. उनके गुस्से की वजह से अमेरिका परेशान हैं, साथ ही उन्होंने सत्ता पर आने के बाद कोई बड़े काम भी नहीं किये हैं. अगर ऐसा ही माहोल बना रहा तो डोनाल्ड ट्रम्प जल्द ही २०२० में सत्ता से निचे आयेंगे. इस सर्वे में इजराइल राष्ट्रपति नेतन्याहू का नाम भी शामिल हैं साल १९९६ में पहिली बार इजराइल के राष्ट्रपति बने फिर १९९९ से लेकर २००९ तक सत्ता से बहार थे फिर से वापसी करते हुए २००९ में राष्ट्रपति के तौर पर चुन कर आये फिर लगातार २०१४ में दूसरी बार विजय प्राप्त करके २०१९ तक बने रहेंगे इनके ऊपर कुछ भ्रष्टाचार के आरोप हैं इनसे ओ बरी होते हैं तो २०१९ का चुनाव भी वाही जित जायेंगे. बात की जाये जापान के शिंजो अबे की तो उनकी अगली जित भी तय मानी जा चुकी हैं. बात की जाये जर्मनी चांसलर एंजेलो मोर्केल की तो वो २००५ में सत्ता में आई थी अभी भी सत्ता में हैं और साल २०२१ तक रह सकती हैं.